MRI Test क्या है, और MRI Full Form क्या होता है | MRI Full Form in Hindi

MRI Full Form | M.R.I. क्या होता है? | MRI scan Test Full Form |  MRI का मतलब क्या है | MRI Scan Full Form in Hindi | MRI meaning in Hindi | MRI Scan Full Name | MRI Test Kya Hota Hai | Full Form of MRI

MRI Full Form: जब किसी व्यक्ति को बीमारी होता है और वह हॉस्पिटल में जाता है तो उसे कई प्रकार की टेस्ट करवाने के लिए डॉक्टरों द्वारा कहा जाता है और उन्हीं के टेस्ट में से एक एमआरआई स्कैन टेस्ट होता है जिससे पूरी बॉडी की जांच की जाती है। लेकिन बहुत से लोग ऐसे भी होते हैं जो इस टेस्ट को करवाते हैं लेकिन उन्हें MRI Kya Hota hai और MRI के फुल फॉर्म के बारे मे कुछ भी ज्यादा जानकारी नहीं होता है।

तो ऐसे मे अगर आपको भी MRI के बारे में कुछ भी जानकारी नहीं है और आप एम आर आई क्या होता है और एम आर आई की फुल फॉर्म के बारे में जानने की रुचि रखते हैं तो ऐसे में आज के इस लेख को आप ध्यानपूर्वक अंत तक पढ़ सकते हैं और एमआराई से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं तो चले विस्तारपूर्वक MRI Scan Test के बारे में जानते हैं।

MRI Full Form क्या होता है? – एमआराई फुल फॉर्म हिंदी मे

MRI के फुल फॉर्म हिंदी भाषा मे ‘चुम्बकीय अनुनाद ईमेजइंग’ होता है जबकि अंग्रेजी भाषा मे MRI का Full Form “Magnetic Resonance Imaging” होता है। और यह एक प्रकार का मेडिकल scan test होता है जिससे पूरी शरीर की बीमारियों का जांच किया जाता है, और इस टेस्ट को कराने में एक व्यक्ति का खर्च 5000 से लेकर ₹8000 तक आ जाता है।

MRI Strands ForMagnetic Resonance Imaging

M Magnetic

R Resonance

I Imaging

MRI Test क्या होता है?

MRI Test एक प्रकार के मेडिकल टेस्ट होता है जिसमे किसी भी व्यक्ति के बॉडी के पावरफुल मैग्नेटिक रेडियो वेव्स कंप्यूटर की माध्यम से छोटे-छोटे भागों में संपूर्ण बॉडी का फोटो लेकर जांच किया जाता है। और इस टेस्ट को खासतौर पर शरीर के अंदर मौजूद गंभीर बीमारियों का पता लगाने के लिए डॉक्टरों द्वारा किया जाता है।

अगर साधारण भाषा में इस टेस्ट के बारे मे बताएं तो इसमें पूरी बॉडी को एक एमआरआई स्कैन टेस्ट मशीन के अंदर किया जाता है और वहां से मैग्नेटिक रेसोनेंस इमेजिंग स्कैन के माध्यम से पूरे शरीर के अलग-अलग भागों के इस scan के माध्यम से फोटो लिया जाता है। और उस फोटो का जांच फिर डॉक्टरों द्वारा किया जाता है।

और एक एम आर आई टेस्ट करवाने के कुल लागत 5हज़ार से ले करेक 8000 हज़ार तक आ जाता है, और MRI Scan Test कराने में लगभग में 15 से लेकर 90 मिनट तक के समय लग जाता है।

नोट: MRI Scan Test रेडिएशन के बजाए मैग्नेटिक फील्ड पर कार्य करता है, और इसलिए यह टेस्ट एक्स रे और सीटी स्कैन जैसे टेस्ट से पूरी तरह अलग होता है।

MRI Test क्यों करवाया जाता है?

जब किसी व्यक्ति के अंदर कोई गंभीर बीमारी होता है और उसका पता एक्स रे और सीटी स्कैन जैसे टेस्ट से नहीं हों पाता है तब फिर डॉक्टरों द्वारा मरीज को एम आर आई टेस्ट कराने की सलाह दिया जाता है जिससे की पूरी बॉडी की जांच किया जा सके और उस बीमारी का पता लगाया जा सके।

क्योंकि मानव शरीर में 70% से ज्यादा पानी भरा होता है, इसलिए हाइड्रोजन स्पिन (Hydrogen spins) के ज़रिए यानी की MRI test के माध्यम से बने इमेज से शरीर की काफी दिक्कतों का पता लगाना डॉक्टरों के लिए आसान होता है और इसलिए ज़ब डॉक्टर किसी व्यक्ति के शरीर के अंदर मौजूद बीमारी को पकड़ नहीं पाते हैं तो अंततः डॉक्टरों द्वारा एम आर आई टेस्ट कराने के लिए कहा जाता है।

MRI Test के क्या फायदे हैं?

अगर आप भी एमआरआई टेस्ट कराने के लिए सोच रहे हैं और एम आर आई टेस्ट कराने के कुछ प्रमुख फायदों के बारे जानना चाहते हैं तो इसके बारे मे सभी जानकारी नीचे दिया गया है।

MRI Test Benifits

  • एम आर आई टेस्ट कराने का सबसे बड़ा प्रमुख फायदा यह है कि अगर आपके शरीर के अंदर कोई गंभीर बीमारी उत्पन्न ले रहा है तो उसका सही समय पर इस test के माध्यम से पता लगाया जा सकता है।
  • डॉक्टरों द्वारा एम आर आई टेस्ट कराने के लिए तब कहा जाता है जब उसके अंदर मौजूद बीमारियों का पता साधारण एक्स-रे और सीटी स्कैन के माध्यम से पता नहीं लग पाता है।
  • अगर आपके अंदर भी कोई ऐसी बीमारी है जिसका पता आप नहीं लगा पा रहे हैं और वह बीमारी आपको काफी समय से है तो ऐसे में आप एम आर आई टेस्ट करा करके उस बीमारी का पता लगा सकते हैं।
  • आप केवल एक टेस्ट करा करके अपने शरीर मे मौजूद बीमारियों का पता लगा सकते हैं आपको बार बार अलग-अलग प्रकार के मेडिकल टेस्ट कराने के लिए अधिक पैसों का खर्च नहीं करना पड़ता है।
  • एम आर आई टेस्ट करा करके आप गंभीर से गंभीर बीमारियों का सही समय पर पता लगा करके उसका इलाज करके बच सकते हैं।

MRI Scan Test मशीन कितने प्रकार के होते हैं?

एमआरआई स्कैन टेस्ट मशीन (MRI Scan Test Mchine) सामान्यत: तीन प्रकार के होते हैं जिसमे पहला एक टेस्ला वाला मशीन, दूसरा 1.5 टेस्ला मशीन और तीसरा 3 टेस्ला वाला एम आर आई मशीन होता है।

S.NMRI Scan Test Mchine
1.एक टेस्ला वाला मशीन
2.1.5 टेस्ला MRI Scan मशीन
3.3 टेस्ला वाला एम आर आई मशीन

MRI Scan Test Mchine के ताकत

अगर एम आर आई स्कैन टेस्ट मशीन के ताकत के बारे में बात करें तो जितना टेस्ला वाला एम आर आई मशीन होगा वह उतना ही ज्यादा मैगनेटिक फील्ड उत्पन्न करता है, और 3 टेस्ला वाला मशीन चाहे तो 20 किलो से लेकर 30 किलो लोहे के बने किसी भी समान को अपनी ओर खींचने की क्षमता रखता है। और इसीलिए जब किसी भी व्यक्ति को एम आर आई टेस्ट करने के लिए मशीन के अंदर डाला जाता है तो उसे पहले उसके शरीर पर मौजूद सभी प्रकार के मेटल ऑब्जेक्ट को उतार दिया जाता है।

किन समानो को पहन करके एम आर आई टेस्ट नहीं कराना चाहिए?

तो चलिए अब जान लेते हैं किन किन सामानों को पहन कर हमें एम आर आई टेस्ट मशीन के अंदर नहीं जाना चाहिए।

  • किसी भी प्रकार के ज्वेलरी ( नेकलेस या झुमके)
  • किसी भी कंपनी के घड़ी
  • पियर्सिंग
  • नकली दांत जिनमें धातु का इस्तेमाल होता है
  • कानो मे लगने वाला सुनने की मशीन

इत्यादि के अलावा भी अगर आपके शरीर पर कोई भी मेटल से संबंधित समान है तो उसको उतार देना चाहिए।

MRI स्कैन से पहले क्या करें और क्या नहीं करें?

अगर आपको भी डॉक्टर ने एम आर आई टेस्ट कराने की सलाह दिए हैं और आप जानना चाहते हैं कि MRI स्कैन टेस्ट कराने से पहले हमें क्या करना चाहिए और क्या नहीं तो इसके बारे में सभी जानकारी नीचे दिया गया है।

  • आमतौर पर एम आर आई टेस्ट कराने के लिए मरीज को ज्यादा कुछ खाने पीने की सामानों की वर्जित नहीं होता है वह चाहे तो सभी प्रकार के खाद्य पदार्थों को खा सकता है।
  • केवल कुछ मामलों में जब उसके पेट के भीतर मौजूद कुछ बीमारियों का पता लगाना होता है तो उस केस में मरीज को स्कैन के 4 घंटे पहले तक खाने की अनुमति होता है।
  • एम आर आई टेस्ट कराने से पहले मरीज को अपनी सेहत की जांच कराना होता है जिससे पता लगाया जाता है कि वह ज्यादा कमजोर तो नहीं है क्योंकि कमजोर व्यक्तियों का एमआरआई टेस्ट नहीं कराया जाता है।
  • इसके अलावा एमआरआई टेस्ट कराने से पहले आपको अपने शरीर पर किसी भी प्रकार के कोई भी मेटल ऑब्जेक्ट नहीं रखना चाहिए,
  • और अगर आपके शरीर पर कोई भी प्रकार का घड़ी, नकलेस, ज्वेलरी और बनावटी दात इत्यादि उपलब्ध है तो इन सब सवालों को एमआरआई स्कैन टेस्ट मशीन में जाने से पहले उतार देना चाहिए।

MRI स्कैन मशीन कैसा होता है?

MRI स्कैनर मशीन एक प्रकार के सिलेंडरनुमा मशीन होती है जो आगे और पीछे दोनों हीं तरफ से खुली होता है, और इस स्कैनर मशीन मे एक मोटराइज़्ड बेड भी होता है जिस पर मरीज को लेटा करके फिर उसे MRI Scan Machine के भीतर भेजा जाता है।

वैसे आप चाहे तो किसी भी एम आर आई टेस्ट करने वाली हॉस्पिटल में जाकर एम आर आई मशीन को देख सकते हैं।

MRI test क्यों ख़तरनाक होती है?

वैसे तो किसी भी प्रकार का मेडिकल टेस्ट कभी भी खतरनाक नहीं होता है क्योंकि मेडिकल टेस्ट का उपयोग किसी भी मरीज के शरीर में मौजूद बीमारियों का पता लगाने के लिए किया जाता है लेकिन एम आर आई टेस्ट कुछ मामलों में खतरनाक होता है जिसके बारे में जानकारी निचे दिया गया है।

Why is MRI test dangerous

एमआरआई टेस्ट खतरनाक तब साबित होता है जब मरीज अपने साथ कोई भी धातु के ऑब्जेक्ट को लेकर एमआरआई मशीन के अंदर दाखिल हो जाता है।

वैसे इस बात का ध्यान वहां मौजूद कर्मचारियों द्वारा दिया जाता है लेकिन कभी-कभार मरीज को इसके बारे मे जानकारी नहीं होता है कि उसके शरीर पर कहां कौन सी मेटल धातु से बनी हुई समान लगी हुई है और इसकी जानकारी वहां मौजूद कर्मचारियों को नहीं देने के कारण एमआरआई टेस्ट कभी-कभार खतरनाक साबित हो जाता है।

इसके अलावा कभी कभार मरीज के साथ मौजूद अन्य व्यक्ति एमआरआई मशीन घर अन जाने में कोई भी मेटल धातु ले करके बिना अनुमति लिए चले जाते हैं जिससे भी एम आर आई टेस्ट के लिए गए हुए मरीज को गंभीर चोट लगने की संभावना होता है।

अगर MRI Test के समय कोई व्यक्ति अचानक कोई भी लोहे से बना हुई स्क्रू, रोड या अन्य कोई भी समान जो लोहे से बना हों वह लेकर के MRI घर मे दाखिला होता हैं तो ऐसे मे भी MRI test काफी ख़तरनाक साबित हो सकते हैं।

इसके अलावा बार बार मेडिकेशन पैच और निकोटिन पैच लगाकर MRI स्कैन रूम में जाना सही नहीं होता है क्योंकि इन सब पैच मे एल्यूमीनियम के कुछ हिस्से होते हैं, और एमआरई स्कैनर चलने के वक्त ये पैच गर्म हो जाते हैं जिससे एमआरईटेस्ट कराने वाले मरीज़ के जलने का खतरा रहता है।

MRI Scan Test FAQ?

तो चलिए अब एमआरआई स्कैन टेस्ट (MRI Scan Test) से जुड़े कुछ महत्वपूर्ण सवालों के उत्तर के बारे में जानते हैं जिनके बारे में लोगों को अक्सर जानने की इच्छा होता है।

Q. MRI में क्या क्या पता चलता है?

Ans: जब आप एमआरआई टेस्ट करवाते हैं तो आपके शरीर में मौजूद किसी भी गंभीर बीमारी का पता डॉक्टरों द्वारा लगाया जाता है। और MRI के माध्यम से आपके शरीर में मौजूद किसी भी बीमारी का पता लगाया जा सकता है।

Q. MRI में कितना खर्च आता है?

Ans: जब कोई भी व्यक्ति एम आर आई टेस्ट करवाता है तो उसका कुल खर्च ₹5000 से लेकर ₹8000 तक आता है बाकी आप किस स्थान में एम आर आई टेस्ट करा रहे हैं उस पर निर्भर करता है लेकिन समानतः यही खर्च आता है।

Q. एम आर आई जांच कितने की होती है?

Ans: एम आर आई जांच समानतः दो प्रकार के होता है पहला सम्पूर्ण बॉडी जांच और दूसरा केवल जिस हिस्से मे आपको बीमारी की संभावना है उसका जांच। यानी कि एम आर आई टेस्ट में बॉडी का फुल जांच और हाफ जांच दोनों प्रकार के होता है।

Q.एमआरआई और सीटी स्कैन में क्या अंतर है?

Ans: एमआरआई और सीटी स्कैन मे सबसे प्रमुख अंतर यह है कि सीटी स्कैन का उपयोग छोटी-मोटी बीमारियों का पता लगाने के लिए किया जाता है जबकि एम आर आई टेस्ट का उपयोग गंभीर और जटिल बीमारियों का पता लगाने के लिए किया जाता है जिसका पता सामान्य सीटी स्कैन एव एक्सरे से पता नहीं चल पाता है।

इसे भी पढ़े :

MBBS कैसे बने, MBBS का Full Form क्या होता है।

HIV क्या है, और HIV full form क्या होता है।

निष्कर्ष-

आज के हिंदीवर्ल्ड ब्लॉग के इस लेख मे हम लोगो ने MRI Test क्या होता है, और MRI Full Form क्या होता है इन सभी सवालों के जवाब के बारे मे जाना है। तो ऐसे में हम उम्मीद कर सकते हैं कि इस लेख को पढ़ने के बाद आपको एमआरआई स्कैन test से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी मिल गया होगा।

बाकि ऐसे हीं अन्य अंग्रेजी के शब्दों के full form हिंदी और अंग्रेजी दोनों मे जानने के लिए hindiworld के Full Form सेक्शन को एक बार जरूर चेकआउट करें। धन्यवाद।

Leave a Comment