RBC Full Form in hindi | आरबीसी क्या है, और RBC के कार्य क्या है?

RBC Full Form: अगर आपने भी अपने वर्तमान जीवन में कभी भी खून की जांच करवाएं हैं तो ऐसे में आपने आरबीसी शब्द के बारे में जरूर सुने होंगे, और आपके मन में भी कभी ना कभी आरबीसी के फुल फॉर्म क्या होता है और आरबीसी के शरीर में मुख्य कार्य क्या होते हैं इत्यादि के बारे में जानने की इच्छा जरूर हुआ होगा।

तो ऐसे में अगर आरबीसी के बारे में आपको भी कोई भी जानकारी नहीं है और इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो आज के इस लेख को ध्यान पूर्वक अब तक पढ़ सकते हैं और RBC Kya Hota hai, RBC meaning in hindi और RBC Full Form इत्यादि के बारे मे विस्तार पूर्वक जानकारी प्राप्त कर सकते हैं तो चलिए विस्तार से आरबीसी के बारे में जानते हैं।

आरबीसी के फुल फॉर्म क्या होता है – RBC Full Form in hindi

आरबीसी के फुल फॉर्म हिंदी भाषा मे “कम्प्लीट ब्लड काउंट” या फिर “लाल रक्त कोशिकाओं” होता है जबकि अंग्रेजी भाषा मे RBC Ke Full FormRed Blood Cells” होता है। और RBC मानव शरीर मे उपलब्ध लाल रक्त कोशिकायें या खून है। और यह फेफड़ों से ऑक्सीजन को पुरे शरीर की अन्य सभी भागो तक पहुंचाता है।

RBC Full Form : Red Blood Cells

R – Red
B – Blood
C- Cells

आरबीसी क्या होता है (RBC Kya Hai)

अगर आपको भी आरबीसी क्या है इसके बारे मे कोई भी जानकारी नही है तो आपकी जानकारी के लिए बता दे की मानव शरीर, और अन्य जीव, जंतुओं में उपलब्ध लाल रक्त कोशिका (red blood cells) है, और यह रक्त मे उपलब्ध सबसे प्रमुख कोशिका होता है, जिसके माध्यम से फेफड़े से पूरे शरीर के अन्य भागो और सेल में ऑक्सीजन पहुंचता है।

अगर आसान भाषा में आरबीसी के बारे में बात करें तो जैसा की आप सभी को पता है कि मानव शरीर विभिन्न प्रकार के सेलों से मिलकर बना होता है और उन्हीं में से एक सेल आरबीसी है जिसका मुख्य कार्य मानव शरीर के विभिन्न भागों में ऑक्सीजन को पहुंचाना होता है, और RBC के बिना कोई भी शरीर के कोई भी सेल काम नही कर सकता हैं।

मानव शरीर में आरबीसी सेल की संख्या कितना होना चाहिए?

मानव शरीर में आरबीसी सेलों की संख्या पुरुषों में 4.7 से लेकर 6.1 मिलियन सेल्स होना चाहिए जबकि महिलाओ मे जो गर्भवती नहीं है उनमें यह संख्या 4.2 से लेकर 5.4 मिलियन सेल्स होना चाहिए

शरीर मे आरबीसी के कम होने के कुछ प्रमुख लक्षण

अगर किसी व्यक्ति के शरीर में आरबीसी सेलो की संख्या काफी कम हो जाता है तो शरीर में नीचे दिए गए विभिन्न प्रकार के लक्षण दिखाई देने लगते हैं।

  • कमजोरी महसूस होना या थकान लगना
  • सांस लेने में दिक्कत होना
  • सर भारी लगना या चक्कर जैसा महसूस होना
  • त्वचा रंगहीन होना

शरीर में RBC के कार्य क्या है?

वहीं अगर शरीर में आरबीसी के प्रमुख कार्यों के बारे में बात करें तो इसका प्रमुख कारण मानव शरीर के सभी भागों में और सेल्स मे ऑक्सीजन को पहुंचाना होता है।

आरबीसी की कमी से कौन सा रोग होता है?

अगर आप भी आरबीसी की कमी से कौन कौन सा रोग शरीर में उत्पन्न हो सकता है इसके बारे में जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो इसके बारे में विस्तार पूर्वक जानकारी नीचे दिया गया है।

  • RBC की कमी से सबसे ज्यादा एनीमिया बीमारी का खतरा रहता है।
  • इसके अलावा आर बी सी की कमी से शरीर में प्लेटलेट्स और हिमोग्लोबिन की कमी हो सकता है।
  • आरबीसी की कमी से शरीर में लंकवा इत्यादि भी मार सकता है और आप लंकवा यानि की पैरालाइसिस के शिकार हो सकते हैं।

इसे भी पढ़े:

सीबीसी टेस्ट (CBC Test) क्या है, और यह क्यों कराया जाता है?

CRP Test क्या है, और सीआरपी टेस्ट क्यों कराया जाता है?

FAQ?

तो चलिए अब आरबीसी से जुड़े कुछ सवालों के जवाब के बारे में जानते हैं जिनके बारे में लोगों को अक्सर जानने की इच्छा होता है और वह इसके बारे में अक्सर गूगल सर्च किया करते हैं।

Q. RBC नार्मल कितना होना चाहिए?

Ans: पुरुषों, महिलाओं और बच्चों के लिए जरूरी रेड ब्लड सेल्स (Normal RBC count) की संख्या अलग-अलग होती है। क्लीवलैंड क्लीनिक के अनुसार, पुरुषों के ब्लड में 4.7 से 6.1 मिलियन रेड ब्लड सेल्स प्रति 1 माइक्रोलीटर होनी चाहिए। वहीं, महिलाओं में यह 4.2 से 5.4 मिलियन और बच्चों में 4.0 से 5.5 मिलियन होनी चाहिए।

Q. RBC का जीवनकाल कितना दिन का होता है?

Ans: RBC का औसत जीवन काल 120 दिनों का होता है

Q. RBC में कितने हीमोग्लोबिन होते हैं?

Ans: रक्त में लगभग 12 से 16 ग्राम हीमोग्लोबिन पाया जाता है। इन पदार्थों की श्वसन गैसों के परिवहन में महत्वपूर्ण भूमिका है। लाल रक्त कणिकाओं की औसत आयु 120 दिन होती है।

Q. आरबीसी टेस्ट से क्या पता चलता है?

Ans: अगर आपके रक्त में आरबीसी यानी हीमोग्लोबीन या हीमाटोक्रीट का काउंट कम है तो आप अनेमिया की बीमारी से पीड़ित हो जाते हैं. अगर यह मात्रा नॉर्मल रेंज से ज्यादा है तो आपके पॉलीसीथेमिया (Polycythemia), दिल की बीमारी (Heart Disease) या फिर कार्डिक अरेस्ट (cardiac arrest) से पीड़ित होने की आशंका बढ़ जाती है

निष्कर्ष –

आज के हिंदी वर्ल्ड ब्लॉग के इस लेख में हम लोगों में आरबीसी क्या होता है और आरबीसी के फुल फॉर्म क्या है इत्यादि के बारे में जाना है तो ऐसे में हम उम्मीद कर सकते हैं कि इस लेख को पढ़ने के बाद आपको आरबीसी से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी मिल गया होगा।

बाकी ऐसे हीं अंग्रेजी के अन्य शब्दों के फुल फॉर्म के बारे में पढ़ने और जानने के लिए hindiworld के फुल फॉर्म (Full Form) सेक्शन को एक बार जरूर चेक आउट करें। धन्यवाद

Leave a Comment