lbw Full Form in hindi | एलबीडब्ल्यू क्या है, एवं lbw के फुल फॉर्म क्या होता है।

lbw Kya Hai | एलबीडब्ल्यू क्या है | lbw Full Form | एलबीडब्ल्यू फुल फॉर्म | Full Form Of lbw in Hindi | lbw Full Form in Hindi | lbw Meaning in hindi | lbw Ke Full Form Kya Hota Hai | lbw Kya hota Hai

lbw Full Form: अगर आप भी क्रिकेट देखना पसंद करते हैं तो ऐसे में आपने एलबीडब्ल्यू आउट का नाम जरूर सुना होगा लेकिन क्या आपको एलबीडब्ल्यू के फुल फॉर्म के बारे में कोई भी जानकारी है अगर नहीं तो आज के इस लेख को ध्यान पूर्वक अंत तक पढ़ सकते हैं। और एलबीडब्ल्यू के फुल फॉर्म से लेकर एलबीडब्ल्यू क्या होता है और यह क्रिकेट में कब लाया गया इत्यादि के बारे में सभी प्रकार की जानकारी प्राप्त कर सकते हैं, तो चलिए विस्तार से एलबीडब्ल्यू के बारे में जानते हैं।

एलबीडब्ल्यू का फुल फॉर्म क्या होता है – lbw Full Form in Hindi

एलबीडब्ल्यू का फुल फॉर्म हिंदी भाषा मे “लेग बिफोर विकेट” होता है जबकि अंग्रेजी भाषा मे lbw Ke Full FormLeg Before Wicket” होता है। और यह एक प्रकार का क्रिकेट का नियम है जिसके अंतर्गत किसी भी बल्लेबाज के शरीर पर बॉल लगने पर अंपायर द्वारा आउट दिया जाता है।

lbw Full Form : Leg before wicket

L – Leg
B – Before
W – Wicket

एलबीडब्ल्यू क्या होता है? (lbw rule Kya Hota hai)

अगर आपको भी एलपीडब्ल्यू क्या है इसके बारे में कोई भी जानकारी नहीं है तो आपकी जानकारी के लिए बता दे की lbw क्रिकेट का एक नियम है जो कि केवल बल्लेबाजों पर लागू किया जाता है और इसके तहत जब कोई भी बल्लेबाज के शरीर पर बिना बैट पर बॉल टच किये हुए लगता है तो ऐसी परिस्थिति में अंपायर द्वारा उसे आउट दे दिया जाता है।

अगर आसान भाषा में बात करें तो अगर किसी क्रिकेट बल्लेबाज के शरीर पर कोई भी बॉल बिना बैट और कलाई में टच किए हुए लगता है और वह बॉल अगर स्टंप को लगता है तो ऐसे में उस बल्लेबाज को एंपायर द्वारा आउट करार दिया जाता है, और इस नियम को पहली बार साल 1974 में क्रिकेट जगत में लाया गया था।

एलबीडब्ल्यू के नियम (LBW rule in cricket)

  • एलपीडब्ल्यू के नियम के तहत जब किसी बल्लेबाज के क्लाई और बैट को छोड़कर उसके शरीर के किसी भी हिस्से में बॉल स्टंप पर जाने के दौरान लगता है तो उसे आउट दिया जाता है।
  • इस नियम के तहत केवल एक वैध डिलीवरी गेंद से lbw होने पर हीं आउट दिया जाता है अगर बॉल नो बॉल हुआ तो उस केस में आउट नहीं माना जाता है।
  • इसके अलावा गेंद का पिच इनलाइन या ऑफ साइड पिच होना जरूरी है उसके बाद ही बल्लेबाज को आउट करार दिया जाएगा।

एलबीडब्ल्यू के इतिहास (LBW Rule History)

अगर एलपीडब्ल्यू नियम के इतिहास के बारे में बात करें तो इसका इतिहास दशको पुराना है और lbw रूल को क्रिकेट जगत में पहली बार साल 1974 में लाया गया था, और इसको लाने के पीछे का मुख्य उदेश्य इस नियम के आने से पहले इस सभी बल्लेबाजों द्वारा विकेट स्टंप को पूरी तरह कवर करके खेला जाता था जिसके वजह से बॉलर को विकेट पर बॉल मारने मे काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ता था और इसी चीज को देखते हुए क्रिकेट जगत में इस नियम को लाया गया।

FAQ?

तो चलिए अब एलबीडब्ल्यू से संबंधित कुछ सवालों के जवाब के बारे में जानते हैं जिसके बारे में सभी लोगों को अक्सर जानने की इच्छा होता है।

Q. एलबीडब्ल्यू का मतलब क्या होता है?

Ans: एलबीडब्ल्यू का मतलब हिंदी भाषा मे “लेग बिफोर विकेट” होता है जबकि अंग्रेजी भाषा मे lbw Ke meaning “Leg Before Wicket” होता है।

Q. LBW कैसे दिया जाता है?

Ans: जब किसी क्रिकेट बल्लेबाज के शरीर में कोई भी बॉल बिना बैठ और कलाई में टच किए हुए लगता है और वह बॉल अगर स्टंप को हिट करता है तो ऐसे में उस बल्लेबाज को एलबीडब्ल्यू आउट दिया जाता है।

इसे भी पढ़े:

डीआरएस (drs) क्या है, एवं DRS के फुल फॉर्म क्या होता है।

निष्कर्ष –

आज के इस लेख में हम लोगों ने क्रिकेट के बहुत अच्छे नियम एलबीडब्ल्यू के फुल फॉर्म और एलबीडब्ल्यू क्या होता है इत्यादि के बारे में जाना है तो ऐसे मे हम उम्मीद कर सकते हैं कि इस लेख को पढ़ने के बाद आपको एलबीडब्ल्यू से संबंधित सभी प्रकार की जानकारी मिल गया होगा।

बाकी ऐसे ही अन्य अंग्रेजी के अन्य शब्दों के फुल फॉर्म के बारे में जानने और पढ़ने के लिए hindiworld blog के फुल फॉर्म सेक्शन को एक बार जरूर चेक आउट करें धन्यवाद।

Leave a Comment