ED Full form in Hindi | ED क्या है, और इसका full form क्या होता है।

ED Full form 2022: ED शब्द काफी फेमस है अक्सर आपने न्यूज़ चैनल और न्यूज़पेपर में ED का नाम तो जरूर सुना होगा और आपने यह भी देखा होगा कि कहीं बार न्यूज़पेपर में यह भी दिखाया जाता है कि ईडी ने इस पार्टी के इस व्यक्ति को नोटिस भेजा है आप आए दिन ED से संबंधित कोई ना कोई खबर जरूर देखते और पढ़ते होंगे लेकिन क्या आपको पता है कि ED का फुल फॉर्म क्या होता है? अगर आप अभी तक यह नहीं जानते हैं कि ED का फुल फॉर्म क्या होता है तो आप बिल्कुल सही जगह पर आए हैं हम आपको इस ब्लॉग में बताने वाले हैं कि ईडी का फुल फॉर्म क्या होता है? और कैसे काम करता है? पूरी जानकारी जानने के लिए हमारे ब्लॉग को अंत तक जरूर पढ़ें.

ED फुल फॉर्म

आपकी जानकारी के लिए बता दें कि ED का फुल फॉर्म Enforcement Directorate होती है और हिंदी में इसे “प्रवर्तन निदेशालय” भी कहते हैं। भारत सरकार की विशेष जांच एजेंसियों में ईडी का नाम सबसे पहले आता है और यह एजेंसी वित्त मंत्रालय के अधीन आती है। ईडी एक ऐसी एजेंसी है जो कि भारत में भ्रष्टाचार कम करने का कार्य करती है । ईडी का मुख्य कार्य काले धन से जुड़े गंभीर मामलों को सामने लाना और उनकी जांच करना होता है। ईडी एक विशेष एजेंसी है जो कि काले धन से जुड़े गंभीर मामलों के आरोपियों को निष्पक्ष सजा दिलवाती है और उनके गलतियों के अनुसार उन्हें दंड दिलवाने का काम करती है।

ED (enforcement directorate) के अधिकार

  1. देश में वित्तीय रूप से हो रहे गैरकानूनी कार्यो पर ED कार्यवाही करता है।
  2. फेरा 1973 और फेमा 1999 इन दो अधिनियम के तहत भारत सरकार की सभी तरह की वित्तीय जांच करने का अधिकार प्राप्त है।
  3. यदि विदेश में कोई भी संपत्ति पर कार्यवाही करनी हो और उसकी रोकथाम करनी हो तो उसका अधिकार भी ED को दिया गया है।
  4. मनी लॉन्ड्रिंग के मामले में लोगों को गिरफ्तार करना और उसकी अच्छी तरह से खोजबीन करने का अधिकार भी ED के पास मौजूद है।
  5. विदेशी मुद्रा अधिनियम के तहत उल्लंघन से निपटने की पूरी छूट ईडी को प्रदान की गई है।

ED (enforcement directorate) के कार्यालय

आपको बता दें कि ED का मुख्यालय भारत की राजधानी दिल्ली में स्थित है। इसके अलावा ईडी के पांच मुख्य कार्यालय हैं जो कि चेन्नई, मुंबई, दिल्ली, कोलकाता, चंडीगढ़ में स्थित है। इसके अलावा ED के क्षेत्रीय कार्यालय के बारे में बात की जाए तो ED के कुल 16 क्षेत्रीय कार्यालय हैं जोकि पटना, अहमदाबाद, चेन्नई, चंडीगढ़, जालंधर, पणजी, कोच्चि, हैदराबाद, गुवाहाटी, दिल्ली, जयपुर, मुंबई, कोलकाता, गुवाहाटी, लखनऊ और श्रीनगर एवं बेंगलुरु में स्थित है। इसके अलावा ईडी के 11 उप क्षेत्रीय कार्यालय है जो मधुरे, भुवनेश्वर, प्रयागराज, नागपुर, रायपुर, कोझीकोड, इंदौर, देहरादून, सूरत, रांची एवं शिमला में स्थित है।

ED (enforcement directorate) का कार्य

जो भी व्यक्ति धन शोधन निवारण अधिनियम 2002, पी एम एल ए एवं विदेशी मुद्रा प्रबंधन अधिनियम 1999 सीमा का उल्लंघन करता है तो ED के पास उस व्यक्ति के खिलाफ जांच करने एवं उसे गिरफ्तार करने का अधिकार प्राप्त होता है। भारत के कई विभाग इस एजेंसी में काम करते हैं जैसे भारतीय प्रशासनिक सेवा, भारतीय कारपोरेट कानून सेवा, सहित अधिकारी, भारतीय राजस्व सेवा, भारतीय पुलिस सेवा आदि के अधिकारी इस विशेष एजेंसी में कार्य करते हैं।

ED का इतिहास

ED की स्थापना 1 मई 1956 को की गई थी इस एजेंसी की स्थापना करने का मुख्य उद्देश्य यह था कि विदेशी मुद्रा विनियमन अधिनियम 1947 के तहत विनिमय नियंत्रण विधियों के उल्लंघन को रोका जा सके, इसके बाद वर्ष 1957 में इसका नाम बदलकर प्रवर्तन निदेशालय कर दिया गया था और इसकी एक शाखा मद्रास में खोल दी गई थी। भारत के विभिन्न शहरों में ED के क्षेत्रीय एवं उप क्षेत्रीय कार्यालय उपस्थित है। जैसा कि हम आपको पहले बता चुके हैं और इन के अंतर्गत भारत के कई विभाग के अधिकारी कार्य भी करते हैं।

इसे भी पढ़े :

HIV Full form in Hindi | HIV क्या है, और इसका full form क्या होता है।

KYC Full form in Hindi | KYC क्या होता है, और इसका full form क्या होता है।

Leave a Comment